मौत के बाद क्या होता हैं? What Happens After Death?

What Happens After Death?

मृत्यु जीवन का आखरी सच हैं. सब को मरना हैं. लेकिन इस जीवन काल में हम कभी भी यह नहीं जान सकते हैं की मौत के बाद क्या होता हैं? What Happens After Death? या शायद जान सकते हैं. कुछ हद तक. सबसे बड़े चिकित्सा अध्ययन में वैज्ञानिकोने मौत से नजदीकी अनुभव (Near death Experiences) और शरीर के बहार का अनुभव(Out of body Experiences) होने की खोज की हैं. जिसमे उन्होंने साबित किया हैं की इन्सान के मृत्यु के बाद उसका दिमाग पूरी बंद हो जाता हैं लेकिन तब भी उसके अन्दर की चेतना और जागृतता जारी रहती हैं. वैज्ञानिकोने 4 साल तक 2000 जितने लोगो की जांच की हैं. उन्होंने देखा की इनमे से 40% लोग ऐसे थे जो मर चुके थे और थोड़े समय के बाद इनका दिल फिर से धडकने लगा था. इस जीवन और मृत्यु के समय के दौरान लोगोने किसी तरह की जागृतता अनुभव करने का वर्णन किया हैं.

कई लोगोने ने अपने  शरीर को पूरी तरह से  छोड़ने के बाद खुद के ही शरीर को रूम के किसी एक कोने से देख सकने का का अनुभव किया. उन्होंने अनुभव किया की वे रूम में उनके शरीर से थोड़ी ऊंचाई पर स्थित हैं और डॉक्टर्स उनका ईलाज कर रहे हैं. वे लोग अपने आप को देख सकते थे. इलाज के वक्त कुछ लोगोने 3-5 मिनिट तक मर चुके होने के बावजूद उस वक्त के दौरान उस रूम में होती हुई प्रत्येक क्रियाओं का वर्णन किया. उसमे उन्होंने नर्सिग स्टाफ के लोगो की क्रियाओं का वर्णन किया और मशीनों की आवाजे सुनी. ज्यादातर किस्सों में दिल धडकना बंद हो जाने के बाद 20-30 सेकंड के अंदर दिमाग काम करना बंद कर देता हैं. लेकिन इन मामलों में दिल धडकना बंद हो जाने के 3-5 मिनिट तक वहाँ पर शरीर में जागृतता मौजूद थी.

कुछ लोगोने असामान्य रूप से शांति की भावना का अनुभव किया तो कुछ लोगोने समय बहुत धीरे से चलने का या बहुत ही तेजी से चलने का अनुभव किया. कुछ लोगोने सूरज के जैसी सुनहरे रंग की बहुत चमकदार रोशनी को देखने की बात कही. कुछ लोगोने किसी अंजान डर का अनुभव किया तो कुछ लोगोने खुद को गहरे पानी में डूबने का या गहराइ में घसीटे जाने का अनुभव किया. कुछ लोगो को चमकदार रौशनी की सुरंग दिखती हैं जिसमे वे प्रकाश की ओर तेजी से जाने लगते हैं.

READ  Placebo Effect In Hindi प्लेसिबो इफ़ेक्ट

69% मामलों में लोग अपने आसपास एक असामान्य प्यार की मौजोदगी होने का अनुभव करते हैं. वहाँ पर उन्हें कुछ इन्सान के आकार के रोशनी से भरपूर कुछ प्राणी दिखते हैं, कईयों का मानना हैं की यह प्राणी उनके मरे हुए प्रियजन थे. कुछ लोग ऐसी जगह पर पहुँच जाते हैं जहाँ पर उन्हें बहुत सारा प्यार और ख़ुशी महसूस होती हैं. उन्हें पृथ्वी के जीवन से यहाँ का जीवन ज्यादा असली लगता हैं. उनको लगता हैं की मानवशरीर वाला जीवन एक सपना था लेकिन यह सच्चाई हैं. कुछ लोग भगवान से मिलकर वापस आने की बात करते हैं. कुछ लोगो का कहना हैं की उनको दिखनेवाले रोशनीवाले प्राणी उनसे कहाँ हैं की तुम्हारा अभी यहाँ पर आने का वक़्त नहीं हुआ हैं. तुम्हे अभी बहुत काम करने बाकि हैं इसलिए तुम्हे वापस जाना पड़ेगा. कुछ लोग भविष्य की झलक देखने का दावा करते हैं तो कुछ लोग उन्हें असीमित ज्ञान प्राप्त कर लेने का दावा करते हैं.

READ  ब्रह्माण्ड पूरी तरह से अव्यवस्थित क्यों हैं?

वैसे वैज्ञानिक अभी इस विषय पर पूरी तरह से सही निष्कष तक नहीं पहुँच पाए हैं. कुछ वैज्ञानिकों का दावा हैं की ऐसे अनुभव लोगों के भ्रम भी हो सकते हैं या फिर दिमाग के अन्दर होती कोई केमिकल प्रक्रियाओं का परिणाम हो सकते हैं. लेकिन मौत से नजदीकी अनुभव (Near-death Experiences) करनेवाले लोग उन्होंने जो देखा उस पर पूरा भरोसा रखते हैं. सच्चाई चाहें जो भी हो लेकिन विज्ञान एक न एक दिन इस विषय पर से पर्दा जरुर उठाएगा. हमे शायद थोडा इंतजार करना पड़ेगा.

(Visited 1,174 times, 1 visits today)

10 Comments

  1. RAJEEV NAAGAR

    want to know more

    Reply
  2. Pingback: How long Can You Go Without Sleep आप कितने समय तक बिना सोए रह सकते हैं? - Facts of universe in hindi

  3. Ajay joshi

    Vichar karney ke liya accha. Sadhanyavad.

    Reply
  4. MarniTTijing

    Thanks for sharing your thoughts on blogroll. Regards

    Reply
  5. Apoorv

    Pehli bat jis man ko bhoot dikhte h ….agar vo hindu h to use 90 persent hindu bhoot dikhege aur agar muslim h to use m7slim logo ki atma dikhegi agar vo sikha h to use sikha atma 90 persent dekhegi. ……….. esa isliye hota h because. Un logo ke man ye khyal rahata h ki vo log mar chuke h. ..or unhe bachpan me sikhaya jata. Ki bhoot. Damger hote. Hame unse darana chahiye. Agar hm logo ko bachpan me na sikhaya jaye ki bhoot hote bhi h to hm log bhoot se ni darege. Jaise ki jab. Koi chota bachha. Snake ko dekhata h. To use snake se dr ni lagata h because use kisi ni bataya ni ki snake danger hote h …or jab use pata chalta h ki snake. Danger hote h to snake ko. Dekhte he uske man me danger sapne ane lagate h. ……..yad rakhe. Sapne me vahi ata ho jo hmne. Kabhi dekha h ya hamare jeevan me kabhi hua h.
    …..APOORV…..

    Reply
    1. kb

      U wrong bro

      Reply
    2. Anamika

      Well said . ydi pta hi n ho to dar kaisa.

      Reply
  6. pankaj

    हमारा क्या अंजाम होगा

    Reply
  7. kb

    Mera bhi ek “near death experience” huwa tha.koi intersted hai tu bta sakta hu.sirf 2/3 second Ke andor he hota hai ye sab kush.aur ye explain koru tu keise…..?amazing hai ye sab.im SERIOUS its nt about funn

    Reply
  8. asif iqbal

    sir i have many querries related to physics so plz be intouch with me

    Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

'
Shares