संयोग क्या होता हैं? What Is Coincidence? In Hindi

Coincidences यानी की संयोग. हम सब इनके बारे में हमेशां सिर्फ सोचते हैं. लेकिन इनका मतलब क्या होता हैं (what is coincidence) और यह क्यों घटित होते हैं इसका जवाब तो किसी के पास नहीं हैं. या फिर ऐसी कोई चीज़ ही नहीं होती (there is no such thing as coincidence) ? सवाल बहु हैं संयोग चाहे अच्छे हो या बुरे और सहीं हो या गलत लेकिन आपको यह हमेशां आश्चर्यचकित कर देते हैं. जब भी आप किसी संयोग को घटित होते देखते हैं तो आप कुदरत के एक अलग ही स्वरुप को अनुभव करते हैं. आइये इसे समजते हैं.

Coincidences

मान लीजिये की अचानक ही आप को अपने किसी दोस्त की याद आ गयी जिसे मिले आपको दो साल हो गए हैं. इसलिए आप उसकी facebook प्रोफाइल देखते हैं. आधे घंटे के बाद आप शौपिंग मॉल में शौपिंग के लिए जाते हैं और वहाँ पर आपको आपका वहीँ दोस्त मिल जाता हैं. उसे देखकर पहले तो आप दंग रह जायेंगे. आप सोचेंगे की ऐसा कैसे मुमकिन हो सकता हैं? कई बार तो आप सोचेंगे की इसके पीछे किसी सुपर नेचुरल ताकत का हाथ हैं. कई बार यह हमें खुद को कोई असाधारण मनुष्य होने का अनुभव करवाते हैं. हमें ऐसी घटना के पीछे कोई उदेश्य होने का अनुभव होता हैं. ऐसा लगता हैं जैसे कुदरत के पास सच में कोई Caring Force हैं. क्यों सही कहा ना. कुछ ऐसे ही होते हैं संयोग.

READ  पदार्थ क्या हैं? What is Matter?

संयोग का सीधा संबंध होता हैं उसे देखनेवालों या महसूस करनेवालों के साथ. क्योंकि संयोग संभव होने के लिए किसी Observer(प्रेक्षक) की सबसे ज्यादा जरूरत होती हैं. संयोग का मतलब होता हैं किसी दो चीजों या घटनाओं के बिच का प्रत्याशित या अप्रत्याशित संबंध जिसके कारण उन्हें देखनेवाला या महसूस करनेवाला भावनात्मक प्रतिक्रिया का कारण बनता हैं. प्रेक्षक अपनी मौजूदा दुनिया की सच्चाई को जिस तरह समज रहा हैं उसमे ऐसी घटनाएँ फिट नहीं होती हैं और उसे आश्चर्यचकित होने पर मजबूर कर देती हैं. दूसरे शब्दों में कहे तो संयोग दुनिया के बारे में हमारी उम्मीदों की असली दुनिया के साथ तुलना करने से मिलता एक परिणाम हैं. सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में ऐसी घटनाएँ तो होती ही रहती हैं लेकिन वह एक संयोग तब बनती जब उसमे हमारा हस्तक्षेप हो. इसके लिए हम ही जिम्मेदार होते हैं न की कोई सुपर पॉवर.

READ  क्या होगा अगर सूर्य अपनी जगह से अचानक ही गायब हो जाए?

तो अगली बार जब आप ऐसे किसी संयोग को घटित होते देखे तो आश्चर्यचकित मत होइए. आप के पास ऐसी कोई भविष्य देखने की शक्ति नहीं हैं. ब्रह्माण्ड में घटनाओं का पैटर्न ठीक वैसे ही चल रहा हैं जैसे वह चलना चाहिए. जो हुआ यह तो होने ही वाला था. ये तो आप थे जो ग़लती से उसके विषय में सोच रहे थे या उस जगह पर मौजूद थे. इसलिए अगर इस दुनिया में संयोग जैसी घटनाएँ घटित न हो तब आप को आश्चर्यचकित होना चाहिए.

(Visited 84 times, 1 visits today)

1 Comment

  1. Rohan shill

    But kavi kavi ma jab tej khayal SE wahi sachta hu to waisa hi 90% sach hota ha…. Jaise- ma apne dost k bare ma soch raha hu, to wo raste ma mill jata ha…
    Easa mere sath harbaar hota ha.

    Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

'
Shares