हमें सपने क्यों दिखाईं देते हैं? Why Do We Dream? In Hindi

Why Do We Dream?
हेल्लो दोस्तों , मेरा नाम उमंग प्रजापति हैं और आज हम बात करेंगे सपनों के बारे में. हमें सपने क्यों दिखाईं देते हैं? Why Do We Dream? हमारे दिमाग में ऐसा क्या चल रहा होता हैं की हमें सपने दिखाई देते हैं? वैज्ञानिक तौर पर सपनों पर होनेवाले अध्ययनों को Oneirology कहाँ जाता हैं. लेकिन हमारे ज्यादातर इतिहास में Oneirology का वजूद नहीं रहा हैं क्योंकि आप किसी सपनें को रोक नहीं सकते और ना ही उसे माप सकते हैं. ना हीं आप सपनों को चख सकते हैं और ना ही दूसरे लोगो के सपनों को देख सकते हैं. अगर आप उन लोगों को पूछेंगे की उन्होंने कैसा सपना देखा तो परिणाम अधिकतर हमेशा अविश्वसनीय होंगे. यह अनुमान लगाया गया हैं की जो भी सपने हम देखते हैं उसमे से 95% सपने भूल जाते हैं और वो भी ज्यादातर उन्हें देखने के 10 मिनट के अन्दर ही. लेकिन सन 1952 में शिकागो विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओंने इंसान के दिमाग में उसके सोने के दौरान एक अनूठे प्रकार की इलेक्ट्रिकल एक्टिविटी देखी. ऐसी अवस्था से उनको जगाया गया तब उन्होंने ज्यादातर यहीं कहा की वे सपना देख रहे थे. और इसी वक्त के दौरान लोगो की आँखे बंद होने के बावजूद इनके नीचें के नेत्रगोलक(Eyeballs) इधर-उधर हिल रहे थे. तो अगर सोने के दौरान आपके किसी दोस्त या किसी फॅमिली मेम्बर की आंखे भी इस तरह बंद होने के बावजूद हिल रही हैं तो समज लीजिए की वे अभी सपना देख रहे हैं.
sleep paralysis
REM (Rapid eye movement) नींद के दौरान कुछ विचित्र चीजे होती हैं. इस दौरान अगर दिमाग की इलेक्ट्रिकल एक्टिविटीओं पर नजर डालेंगे तो वो बिलकुल उसी तरह की होंगी जैसी वे इन्सान के जगने के दौरान होती हैं. मस्तिष्क के अंदर norepinephrine, सेरोटोनिन और हिस्टामिन जैसे रसायनों के उत्पादन पूरी तरह से ब्लॉक हो जाते हैं और वो ही मांसपेशीओं के ना हिल पाने का कारण बनते हैं. इस वजह से आप उड़ने का, दौड़ने का या फाइट करने का सपना देखते हैं लेकिन वास्तव में आपका शरीर हिल नहीं रहा होता हैं. जिन लोगो में REM-A-Topia को पूरी तरह से अचीव नहीं कर पाने का विकार होता हैं वो नींद के दौरान इधर-उधर हिलते हैं और अपने सपनें को वे खुद परफॉर्म करते हैं. कई बार तो अपने बिस्तर से निचे उतर कर चलने लगते हैं. कई बार हो सकता हैं की आप नींद से उठ गए हो लेकिन अपने शरीर को हिलाने के लिए सक्षम न हो पाए. आप जानते हैं की आप पूरी तरह से सजाग हैं लेकिन आपका शरीर हिलने के लिए तैयार नहीं हैं. क्योंकि अभी भी आप REM-A-Topia में होते हैं. कई बार आप सपने में होते हैं और जानते भी हैं की आप सपना देख रहे हैं. इस घटना को Lucid Dreaming कहते हैं. इस तरह की घटना के बारे में कमाल की बात यह हैं की आप अपने सपने के लिए कुछ भी सचेत निर्णय ले सकते हैं. में जहाँ चाहू वहाँ उड़ सकता हूँ या शाहरुख़ खान के साथ डिनर कर सकता हूँ. आप जो करना चाहे वो कर सकते हैं.
अगर एक व्यक्ति पूरे दिन के दौरान कोई मुश्किल नया काम सीखता है, जैसे की कोई नया उपकरण चलाना या कोई सवाल का जवाब, तब आप उनके दिमाग में चल रही इलेक्ट्रिकल एक्टिविटीओं को माप सकते हैं. जब उस रात को ऐसे लोग सो जाते हैं तब वे जाने या न जाने, उनका दिमाग उन इलेक्ट्रिकल एक्टिविटीओं का रीप्ले करता हैं. हम सपने क्यों देखते  हैं इसके बारे में सबसे लोकप्रिय सिध्धांत यह हैं की जब हम सोते हैं तब हमारे दिमाग का अचेतन हिस्सा हमारे दिमाग में स्टोर यादों का आयोजन करता हैं.
लेकिन सपनोँ के बारे में जानने से मजेदार हैं उन्हें देखना. सामने की तरफ तस्वीर में ईगल नेबुला हैं. यह बाह्य अंतरिक्ष की एक विशाल संरचना हैं. यह हमारे सौरमंडल से 6,500 प्रकाशवर्ष दूर हैं. हम जानते हैं की यह किस चीज़ से बना हैं और एक लाख अरब किलोमीटर लंबा हैं. हम यह भी जानते हैं की यह वहाँ पर किस कारण से हैं और 750 मिलियन सालों से वहाँ पर हैं. लेकिन पिछली रात यह मेरे सपने में आया. क्या स्पेशल इफ़ेक्ट था. मानों में खुद एक अवकाशयान हूँ और अंतरिक्ष में खुला लहरा रहा हूँ. इसके बाद ईगल नेबुला मेरे सामने था. कोई नहीं जानता क्यों? यहीं तो सपनों की खूबी हैं.
(Visited 122 times, 1 visits today)

2 Comments

  1. shashikant

    समय क्या ह यह कहा से operate होता ह और इसे क्या हम रोक सकते ह और क्या समय को पीछे किया जा सकता ह।

    Reply
  2. rajeev

    passible hai aapne pre study kiya ho wo apke mind me raha ho jo apne dream me dekha
    agar aisa nahi hai to best dream tha abtak ka .

    Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

'
Shares